Thursday, 16 May 2019

पञ्चचामर छन्द [Panchchamar Chhand]

 छन्द : पञ्चचामर 

विधान- 【 121 212 121 212 121 2】चार चरण,क्रमशः दो-दो चरण समतुकांत

---------------------------
उठो  !  बढ़ो,  रुको  नहीं, करो,  मरो,  डरो नहीं
बिना      करे   तरे   नहीं,  बिना  करे नहीं कहीं
पुकारती    तुम्हे    धरा, दिखा शरीर शक्ति को
अप्राप्य प्राप्त हो,तभी,“नवीन” भोग भुक्ति को

----- नवीन श्रोत्रिय “उत्कर्ष”

नहीं    कभी    अधीर हों, करें  विचार  काज पे
लिये    न  हो अशुद्धियां, लगे  न दाग आज पे
अशुध्द    भाव हो नहीं, पवित्र चित्त  जान लें
मिले    धरा  उसे जिसे , “नवीन”आप ठान लें
 नवीन श्रोत्रिय “उत्कर्ष”


बढ़े    चलो,  गढ़े  चलो, चढ़ो सुकीर्ति सीढ़ियाँ
लिखो  वही, गुने   सभी, पढें   नवीन  पीढ़ियाँ 
कभी  रखो  न  चित्त में,विकार  बैर लोभ का 
यही   प्रधान  तत्व तो, रहा  सजीव  क्षोभ का
नवीन श्रोत्रिय “उत्कर्ष”

उठा   कृपाण,  वीर   जो, अधर्म   देह चीर दो 
रहे     मनुष्य  सृष्टि  पे, यथार्थ ना अधीर हो 
धरा   प्रतीक   पे  करें,  गुमान  और  देश भी 
कुमार्ग   पे  चलो   नहीं, कहें   यही  उमेश भी
नवीन श्रोत्रिय “उत्कर्ष”

पञ्चचामर  छन्द

4 comments:

  1. ब्लॉग बुलेटिन की दिनांक 16/05/2019 की बुलेटिन, " मुफ़्त का धनिया - काबिल इंसान - ब्लॉग बुलेटिन “ , में आप की पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  2. वाह बेहतरीन प्रस्तुति

    ReplyDelete

Please Comment If You Like This Post.
यदि आपको यह रचना पसन्द है तो कृपया टिप्पणी अवश्य करें ।

DONATE-US

सूचना पटल [ Notice Board ]


Utkarsh Kavitawali Android App


Naari Tukalyani Patrika


Marudhar Ke Swar


अक्षय गौरव जन०-मार्च अंक

Categories

Popular

About Writer

नाम : नवीन शर्मा श्रोत्रिय
उपनाम : उत्कर्ष
पिता : श्री रमेश चंद शर्मा
माता : श्रीमति ललिता शर्मा
जन्म : 10 मई 1991
जन्म स्थान : ग्राम - नरहरपुर,तहसील- वैर,जिला - भरतपुर (राज•) 321408
वर्तमान निवास : उपखण्ड - बयाना,जिला भरतपुर (राजस्थान) 321401
शिक्षा : स्नातकोत्तर (हिंदी)
सीनियर अकाउंटेंट
लेखन : गद्य-पद्य दोनों में (छंद, गीत,गजल,निबंध,कहानी,लघुकथा)
लेखन : लगभग 26 जून 2016 से
उपलब्धि : आपकी रचनाये अलग अलग राज्यो से कई पत्रिकाओं में प्रकाशित,
काव्य मंच : 1. उज्जैन, 2. अपनाघर आश्रम, 3. बयाना

विशिष्ट पोस्ट

Top Romatic Shayari-Muktak

MUKTAK चलाये   बाण    नैनों   के, बना  उनका  निशाना दिल  चढ़ी फिर आशिकी हमपे, लगें  उजड़ी सभी महफ़िल  नहीं  है  और कुछ चाहत, बने   वो  ...

कृपया मेरा अनुशरण करें /Follow This Blog

आपकी पाठक संख्या

Blog Archive

Tags

Labels

Follow by Email

हाल की पोस्ट

पत्र-व्यवहार

Naveen Shrotriya Utkarsh

Shrotriya Mansion Bayana

Rajasthan,Ind. 321401

Personal +918440084006

Cellular +919549899145

OFFICE +918005989635

Mr.Naveenshrotriya@Gmail.com

Mr.Naveenshrotriya@yahoo.com

Mr.NaveenShrotriya@live.com

Contact Form

Name

Email *

Message *